Breaking NewsNational

मौसम विभाग का ऑरेंज अलर्ट, आंधी तूफान-ठनका और मूसलाधार बारिश की आशंका




Sponsored

फसलों की सुरक्षा के लिए कृषि विभाग ने जारी की एडवाइजरी
धान की नर्सरी लगाने का सुझाव, सब्जी के खेत में जमा न हो पानी

Sponsored




Sponsored

पश्चिमी विक्षोभ के असर से हावी हुए प्रीमानसून में भारी बारिश की आशंका जताते हुए मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। जिसके बाद कृषि विभाग ने एडवाइजरी जारी कर किसानों को धान की नर्सरी लगाने और खेतों में पानी इकट्ठा न होने देने को कहा है।

Sponsored




Sponsored

मौसम विभाग की ओर से जारी एडवाइजरी के मुताबिक, करीब हफ्ते भर तक जिले में सौ एमएम से ज्यादा बारिश हो सकती है। 15 से 20 किलोमीटर के वेग से हवा चलने पर दुर्घटना की आशंका भी है। लिहाजा, प्रशासन से लोगों की सुरक्षा के लिए उचित व्यवस्था करने को कहा है। वहीं, कृषि विभाग से किसानों के लिए उचित सुझाव देने को कहा है ताकि बारिश और तेज हवाओं से होने वाले नुकसान के प्रति वह पहले से ही तैयार रहें। जिला कृषि अधिकारी धीरेंद्र चौधरी ने बारिश को किसानों के लिए अनुकूल बताया है। उन्होंने कहा, बारिश से किसानों की सिंचाई में होने वाले आर्थिक खर्च से राहत मिलेगी। साथ ही धान की नर्सरी लगाने के लिए ये वक्त अच्छा है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि कई किसानों ने पहले से खेत तैयार कर लिए थे, जो अब नर्सरी लगाने लगे हैं।

Sponsored




Sponsored

धान के अतिरिक्त सब्जी वाली फसलों के लिए भी बारिश लाभकारी होगी, बशर्तें उसमें पानी लंबे समय तक न रुके। खेत में पानी भरने से फफूंद और अन्य रोग लग सकते हैं। कीटनाशकों का प्रयोग सीमित करें। वहीं, अगर किसी किसान की बीमित फसल बारिश से बर्बाद हो गई है तो तत्काल हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर बर्बाद फसल का ब्योरा दें। ताकि स्थानीय स्तर की टीम मौके पर पहुंचकर रकबा की गणना कर सके।

Sponsored




Sponsored

बरतें सावधानी.. वायरल बीमारियों का मौसम
वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. वागीश वैश ने बताया कि इस समय दिन में गर्मी और रात में हल्की ठंड हो रही है। ऐसे में थोड़ी सी लापरवाही वायरल बीमारियों की वजह बन सकती है। उन्होंने बताया कि तापमान में तेजी से हुई गिरावट से बैक्टीरिया और वायरस हावी हो सकते हैं। संक्रामक रोग बढ़ने की आशंका है। ऐसे में लोग घर के पास जलभराव न होने दें। गीले कपड़े ज्यादा देर तक न पहनें। बारिश में भीगने से बचें। बाहर की और बासी चीजों के सेवन से परहेज करें। बगैर परामर्श दवा न खाएं।

Sponsored




Sponsored

संक्रमण के लक्षण हों तो तत्काल कराएं जांच
मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सुधीर गर्ग का कहना है कि मानसून के दौरान कई लोगों को बुखार, सर्दी आदि बीमारियां हो सकती हैं। कोरोना जैसे ही लक्षण होने का फर्क सिर्फ विशेषज्ञ ही समझ सकते हैं। इसलिए लोगों को बेहद सावधान रहने की जरूरत है। अगर संक्रमण के लक्षण हैं तो जांच कराएं। जांच में देरी की वजह से संक्रमण का प्रभाव बढ़ने की आशंका से जान का जोखिम हो सकता है। बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीमें सक्रिय हैं। जांच शिविर लग रहे हैं।

Sponsored




Sponsored

दिन के तापमान में दस डिग्री की गिरावट
मौसम विभाग की ओर से शनिवार को जारी बुलेटिन के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में जिले में पांच एमएम बारिश हुई। अगले करीब हफ्ते भर तक पश्चिमी विक्षोभ हावी होने से अनुकूल माहौल बनने पर बारिश के आसार हैं। आंचलिक मौसम अनुसंधान केंद्र के निदेशक डॉ. जेपी गुप्ता ने बताया कि शनिवार को अधिकतम तापमान सामान्य से दस डिग्री कम 29.0 डिग्री और न्यूनतम सामान्य स्तर पर 26.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here