दो साल के बच्चे और फुल टाइम जॉब के साथ बुशरा बानो ने बिना कोचिंग के पास की UPSC परीक्षा, बन गई IAS अधिकारी..

IAS, IPS, Indian Administrative Service, UPSC, Civil Services, Bushara Bano, Union Public Service Commission, Indian Police Service, UPSC CSE, UPSC CSE 2018, UPSC Topper, UPSC Topper Bushara Bano,आईएएस, आईपीएस, इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेस, यूपीएससी, सिविल सर्विसेज, बुशरा बानो, यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन, संघ लोक सेवा आयोग, यूपीएससी सीएसई, यूपीएससी सीएसई 2018, यूपीएससी टॉपर, यूपीएससी टॉपर बुशरा बानो, Bharat News Channel

Success Story Of IAS Topper Bushara Bano: बुशरा बानो ने यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल की जब परिस्थितियां ऐसी थीं जो किसी भी उम्मीदवारों को आइडियल नहीं मानते थे। परीक्षा की तैयारी में दिन-रात बिताने वाले कैंडीडेट्स सफल नहीं होते। वहीं बुशरा जैसे कैंडिडेट्स शादी, घर-परिवार, बच्चा और पूरे समय की नौकरी के साथ इस परीक्षा में सफल होते हैं। बुशरा भी उन महिलाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं जिन्हें लगता है कि शादी करने के बाद, खासकर बच्चे के जन्म के बाद, करियर के सभी द्वार बंद हो जाते हैं। दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिए इंटरव्यू में बुशरा ने ऑप्शनल विषय मैनेजमेंट की तैयारी पर खुलकर बात की, साथ ही ऑप्शनल विषय चुनते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इस पर भी चर्चा की।

बुशरा की शिक्षा की बात करें तो वह हमेशा मैनेजमेंट से पढ़ाई की है। बुशरा ने एमबीए करने के बाद मैनेजमेंट में पीएचडी की और यूपीएससी में भी इसी विषय में पीएचडी की। बुशरा कोल इंडिया में असिस्टेंट मैनेजमेंट भी करती थी। परीक्षा की तैयारी के दौरान बुशरा ने अपनी नौकरी को कभी नहीं छोड़ा और बच्चे और काम दोनों के साथ समय बिताया।

बुशरा ने मैनेजमेंट ऑप्शनल लेने का साफ तौर पर निर्णय लिया क्योंकि उन्होंने इस विषय पर अच्छी तरह से अनुभव किया है और इस विषय पर अच्छी तरह से पकड़ है। हालाँकि मैनेजमेंट विषय और स्कोरिंग का पाठ्यक्रम बहुत कठिन है, बुशरा ने पहले से ही काफी पढ़ा था, इसलिए उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई।

बुशरा ने अपने अनुभव से बताया कि किसी भी विषय को ऑप्शनल चुनते समय बहुत कुछ ध्यान रखना चाहिए। जैसे पहले, आप अपनी रुचि और ऑप्शनल के अनुसार ऑप्शनल चुनें; किसी दूसरे की कही सुनी बातों में न आएं। आपको बहुत सी सलाह दी जाएगी, जैसे कि कौन सा विषय कठिन है, कौन सा स्कोरिंग है, किस विषय का सिलेबस ज्यादा है या किसमें अच्छे अंक नहीं मिलते, लेकिन आप अपनी क्षमताओं, रुचि और पकड़ के हिसाब से निर्णय करें।

वे आगे कहती हैं कि इस परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने वाले अक्सर ऑप्शनल में अच्छे अंक प्राप्त करते हैं। यही कारण है कि यह विषय बहुत महत्वपूर्ण है और आपको लंबे समय तक पढ़ना चाहिए। इसलिए वही विषय चुनें जिसमें आप रुचि रखते हैं और जिसमें आप स्कोर कर सकते हैं।

बुशरा ने मैनेजमेंट का विषय चुना जब वे जानते थे कि इस विषय में पर्याप्त कोचिंग और सलाह नहीं है, लेकिन वे अपनी क्षमताओं पर भरोसा करते थे, इसलिए वे अपनी दिल की राह पर चली। ठीक उसी तरह, जब आप अपना ऑप्शनल चुनें, यह सुनिश्चित करें कि किताबें उपलब्ध हैं या नहीं, या कम से कम इंटरनेट पर उपलब्ध हैं। याद रखें कि पढ़ना आपका अधिकार है, इसलिए जो आपको अच्छा लगे, उसी तरफ बढ़ें।

अपना शेड्यूल अपने अनुसार बनाएं और बहानेबाजी न करें कि मैं समय नहीं निकाल पाता या समय नहीं मिलता। यहां आपका आत्मविश्वास सबसे महत्वपूर्ण है। मानव विचार करने पर कुछ भी हासिल कर सकते हैं, और किसी भी प्रकार की चुनौती उनके मार्ग में बाधा नहीं बन सकती। बुशरा इस परीक्षा में सफल हो सकती है अगर वह शादी, बच्चे और काम करती है। बस समय का प्रबंधन करना और कड़ी मेहनत करना चाहिए।

[DISCLAIMER: यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *