BIHARBreaking NewsNationalSTATE

सुबह को अंडा बेचता था और पूरी रात करता था पढ़ाई, जानिए कैसे अंडा बेचने वाला BPSC निकला कर बना अफसर




Sponsored

अब तक आपने कई ऐसे बीपीएससी परीक्षा पास करने की जुनूनी कहानी पढ़ चुके होंगे लेकिन यह कहानी सबसे हटकर है यह कहानी एक ऐसे शख्स का है जो गरीबी से निकलकर आज अफसर बन चुका है एक ऐसा शख्स जो कल तक अंडा बेचा करता था वह आज अफसर बन गया है यह शख्स कल तक अंडा बेच कर घर का खर्च उठाया था आज उसने बीपीएससी की परीक्षा पास कर ली है

Sponsored




Sponsored

बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 64वीं सिविल सेवा संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा में परचम लहराने वाले बीरेंद्र की कहानी काफी प्रेरणादायक है. अंडे की छोटे से दुकान से ऑफिसर बनने तक का सफर किसी सपने से कम नहीं है. सूबे के औरंगाबाद जिले के कर्मा रोड स्थित छोटे से गुमटी में बैठकर अंडे बेचने वाले बीरेंद्र के लिए बीपीएससी क्रैक करना एक सपना था, जिसे उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से साकार किया.

Sponsored




Sponsored

पिता की मौत के बाद छोड़ दिया गांव
औरंगाबाद जिले के बारुण प्रखंड के एक छोटे से गांव हाथीखाप के रहने वाले बीरेंद्र के पिता भिखारी राम पेशे से मोची थे और दूसरे के फटे जूते सिलकर वे अपने तीन बच्चों की परवरिश करते थे. लेकिन साल 2012 में पिता की मौत के बाद तीनों भाइयों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा. मां के साथ सभी ने गांव छोड़कर शहर का रुख किया. घर की जिम्मेवारी बड़े भाई जितेंद्र के कंधे पर आ गई. शहर आकर सबों ने कर्मा रोड के दलित बस्ती में किराए पर दुकान लिया और जीवन की गाड़ी खिंचने लगे.

Sponsored




Sponsored

इधर, बीरेंद्र ने पढ़ाई का जुनून नहीं छोड़ा. घर की माली स्थिति बेहद खराब होने की वजह से बीरेंद्र ने अंडे की दुकान खोल ली. इस व्यवसाय के साथ-साथ बीरेंद्र ने पढ़ाई भी जारी रखी. जब ग्राहक नहीं रहते, तो वे दुकान पर ही पढ़ाई करता था. धीरे-धीरे घर की आर्थिक स्थिति कुछ ठीक हुई तो बड़े भाई ने बैग का एक छोटा सा दुकान खोला, जहां चमड़े के बैग समेत अन्य सामग्रियों की बिक्री होने लगी.

Sponsored




Sponsored

दुकान छोड़कर पढ़ाई पर लगाया ध्यान
आर्थिक स्थिति ठीक होने के बाद बड़े भाई जितेंद्र ने अपने छोटे भाई को दुकान छोड़कर सारा ध्यान पढ़ाई पर केंद्रित करने के लिए कहा. दोनों भाईयों ने बाबा भीमराव अंबेडकर की जीवनी को अपने हृदय में आत्मसात करते हुए हर कठिन और विषम परिस्थिति का सामना करने की ठानी. बीरेंद्र ने दुकान बंद कर बगल के ही एक प्रतियोगी राजीव कुमार जिन्होंने अपनी पढ़ाई दिल्ली से पूरी की थी, उनका साथ लिया और उनके मार्गदर्शन में अपनी पढ़ाई शुरू की.

Sponsored




Sponsored

धीरे-धीरे बैच बना और सबों ने कम्पीटिशन को फतह करने की ठानी, लेकिन सफलता बीरेंद्र ने हासिल की. उन्होंने बीपीएससी की परीक्षा में 201वां स्थान प्राप्त किया. उनके इस कामयाबी से परिजन काफी खुश हैं. आज बीरेंद्र के दो कमरों के घर पर बधाई देने वालों की भीड़ लगी हुई है. उन्होंने यूपीएससी फतह करने का लक्ष्य रखा है. उन्होंने यह संकल्प लिया है कि गरीब तबके के बच्चे जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं, उनकी मदद कर वे सफलता के मार्ग को प्रशस्त करेंगे.

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here