BIHARBreaking NewsNationalSTATE

अपनी रैली में ‘लालू यादव जिंदाबाद’ के नारे लगने पर भड़के नीतीश कुमार, कहा – हल्ला मत करो

Bharat News Channel, अपनी रैली में 'लालू यादव जिंदाबाद' के नारे लगने पर भड़के नीतीश कुमार, कहा - हल्ला मत करो

Bihar Assembly Elections 2020: राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) की रैलियों में लोग ही लोग दिखते हैं. सबसे ज़्यादा शोर तब होता है जब तेजस्वी वादा करते हैं कि उनकी सरकार बनी तो 10 लाख सरकारी नौकरियां देंगे. लेकिन बुधवार को एक ऐसा वीडियो सामने आया जिसमें अपनी रैली में ‘लालू यादव जिंदाबाद’ के नारे लगते देख मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) भड़क उठे. अपनी पार्टी के उम्मीदवार चंद्रिका राय, जो कि लंबे समय तक राष्ट्रीय जनता दल में रहे और हल ही में जेडीयू में शामिल हुए, उनके लिए प्रचार के दौरान हुई इस घटना पर नीतीश कुमार अपनी बात बीच में ही रोकते हुए बोल पड़े, ‘ये क्या बोल रहे हैं? ये क्या बोल रहे हैं?’ मुख्यमंत्री ने कहा, जो भी ऐसा अनाप-शनाब बोल रहे हैं, अपने हाथ उठाएं. रैली में सन्नाटा पसर गया और तभी कोई चिल्लाया ”चारा चोर – वह घोटाला जिसके लिए लालू यादव को जेल हुई.

Sponsored

इसके बाद ऐसा लगा क‍ि नीतीश कुमार कुछ शांत होंगे लेकिन वो नहीं रुके, ”यहां हल्ला मत कीजिए. अगर आप मेरे लिए वोट नहीं करना चाहते तो मत कीजिए. आप जिस वजह से यहां आए, आप जिस व्यक्त‍ि के लिए आए हैं उनके ही वोटों को नष्ट कर देंगे.’

Sponsored

ऐसा लगता है कि तेजस्वाी यादव के सत्ता में आने पर 10 लाख सरकारी नौकरियों के वादे और उनकी रैलियों में उमड़ रही भारी भीड़ ने मुख्यमंत्री की नींद उड़ा दी है. 

Sponsored

मंगलवार को नीतीश कुमार ने एक चुनावी रैली में तेजस्वी यादव के दावे का मजाक उड़ाते हुए कहा था कि धरती पर कोई भी इस असंभव वादे को पूरा नहीं कर सकता.

Sponsored

बुधवार को गोपालगंज के भोरे, सीवान के जीरादेई, जहांनाबाद, मसौढ़ी में चुनावी रैलियों को संबोधित कर रहे नीतीश कुमार ने विपक्षी नेताओं पर तंज करते हुए कहा था, ‘‘कुछ लोग केवल बयानबाजी करते रहते हैं. जिन्हें ‘क, ख, ग, घ’ का ज्ञान नहीं है, वे काम करने की बात कर रहे हैं. आजकल कुछ लोग कह रहे हैं कि इतनी नौकरी देंगे…, लेकिन कहां से देंगे और इसके लिये पैसा कहां से आयेगा? उन्होंने कहा, ‘‘जब इतने लोगों (10 लाख लोगों) को नौकरी देंगे, तब बाकी को क्यों छोड़ देंगे.” लालू प्रसाद के परोक्ष संदर्भ में कुमार ने कहा, ‘‘जिस कारण से जेल गए, क्या उसी पैसे से व्यवस्था करेंगे? जो काम हो ही नहीं सकता, उसके लिये पैसा कहां से आयेगा? नकली नोट लायेंगे या जेल से आयेगा पैसा.” मुख्यमंत्री ने लोगों से कहा, ‘‘इससे भ्रमित होने की जरूरत नहीं है. हमने काम किया और राज्य को प्रगति के रास्ते पर लाए. मौका मिलेगा तब और काम करेंगे.”

Sponsored

नीतीश कुमार की सहयोगी अभी तक भीड़ की अनदेखी करती रही है. बुधवार को उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने आंकड़ों के साथ नौकरियों के वादे की हकीकत बताने की कोश‍िश की. उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कर्मचारियों के वेतन व अन्य मदों में 52,734 करोड़ रुपये का खर्च है. 10 लाख कर्मचारी और जुड़ जाएंगे तो यह खर्च 1.11 लाख करोड़ तक पहुंच जाएगा.

Sponsored

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री और कई मंत्रियों को अपने चुनाव अभियान के दौरान जनता के आक्रोश का सामना करना पड़ रहा है. यह पूरी तरह से आश्चर्य की बात नहीं है; प्रवासियों के संकट से निपटने के लिए नीतीश कुमार की आलोचना हुई थी, खासकर जब कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से जब अपनी नौकरियों से हाथ धो बैठे 32 लाख से अधिक लोगों को बिहार लौटने के लिए मजबूर होना पड़ा था. इसके अलावा, भाजपा इस ओर इशारा करती है कि 15 साल बाद “बोरियत” होना तय है.

Sponsored

Input: NDTV

Sponsored
Sponsored

Comment here