BIHARBreaking NewsNationalSTATE

बिहार में फिर से स्कूल-कॉलेज बंद, सार्वजनिक समारोह के लिए जारी हुई नई गाइडलाइन

बिहार में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए नीतीश कुमार सरकार ने राज्य में 5 से 12 अप्रैल तक सभी स्कूल-कॉलेजों को बंद करने का आदेश दे दिया है. इसके साथ ही राज्य में सभी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रमों पर भी पाबंदी लगा दी गयी है. सरकारी आदेश के अनुसार राज्य में एक सप्ताह के लिए सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने का आदेश दिया गया है.

Sponsored

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा शनिवार को कोरोना की समीक्षा के बाद निर्देश दिया गया था कि आपदा प्रबंधन समूह राज्य के शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखने पर विचार करे. मुख्यमंत्री के सुझाव के बाद हुई आपदा समूह की बैठक में यह निर्णय लिया गया कि फिलहाल राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थानों को पांच से 12 अप्रैल तक बंद रखा जायेगा.

Sponsored




Sponsored

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने बताया कि राज्य के सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान और विश्वविद्यालयों को एक सप्ताह तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है. कोरोना को देखते हुए फिलहाल समूह के इस फैसले से सभी को अवगत करा दिया जायेगा.

Sponsored

राज्य में सभी तरह के सार्वजनिक कार्यक्रम पर भी पाबंदी

Sponsored

नीतीश कुमार सरकार ने कोरोना संक्रमण को काबू में करने के लिए पूरे राज्य में सख्ती बढ़ाने का फैसला लिया है. जिसके अनुसार अप्रैल के आखिर तक राज्य में सभी तरह के सरकारी और गैर सरकारी सार्वजनिक कार्यक्रमों पर पाबंदी लगा दी गयी है.

Sponsored




Sponsored

विवाह और अन्य पारिवारिक कार्यक्रम पर भी पाबंदी

Sponsored

सरकार ने विवाह और अन्य पारिवारिक कार्यक्रमों को कुछ पाबंदियों के साथ मंजूरी दी है. शादी समारोह में 250 और श्राद्ध क्रम में 50 लोगों की मौजूदी हो सकती है.

Sponsored

मास्क चेकिंग अभियान की शुरुआत

Sponsored

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए राज्य में सरकार की ओर से मास्क चेकिंग अभियान की शुरुआत की जाएगी. इस दौरान बिना मास्क पकड़ने जाने पर कार्रवाई भी की जाएगी. इसके अलावा नीतीश सरकार ने 50 % पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मंजूरी दी है.

Sponsored




Sponsored

गौरतलब है कि राज्य में कोरोना महामारी के कारण बंद स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान और विश्वविद्यालयों को खोलने का निर्णय इस वर्ष जनवरी के आरंभ में लिया गया था. आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लिये गये निर्णय के बाद राज्य के नौवीं और उससे ऊपर के क्लास को खोलने का निर्णय चार जनवरी से लिया गया था. इसके बाद आपदा प्रबंधन समूह के निर्णय के बाद आठ फरवरी से राज्य की छठी से आठवीं क्लास तक की कक्षाएं खोलने का फैसला लिया गया.

Sponsored

एक मार्च से पहली कक्षा से पांचवीं कक्षा तक के स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया गया था. हालांकि, आपदा प्रबंधन समूह द्वारा स्कूल कॉलेज और कोचिंग संस्थाओं को खोलने के साथ कोविड नियमों के पालन करने, सामाजिक दूरी का पालन करने, सैनेटाइजेंशन करने और आधी-आधी संख्या में विद्यार्थियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया था.

Sponsored




Sponsored

INPUT: PRABHAT KHABAR

Sponsored
Sponsored

Comment here