BIHARBreaking NewsNationalSTATE

भारत में Corona की दूसरी लहर के बीच आयी राहत भरी खबर, Vaccine की दूसरी डोज के बाद संक्रमित होने की सिर्फ इतनी है आशंका




Sponsored

Coronavirus latest News Updates : कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के एक हफ्ते बाद कोरोना वायरस से संक्रमित होने की संभावना 1% से भी कम हो जाती है. इनमें से 0.2% में ही कोविड-19 के लक्षण दिखायी देते हैं. इस्राइल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी है. बता दें कि इस्राइल दुनिया का पहला देश है, जहां की 60% से अधिक लोगों का कोरोना का टीका लगाया जा चुका है. यहां के करीब 33 लाख से अधिक लोगों ने वैक्सीन की दोनों डोज पूरी कर ली है.

Sponsored




Sponsored

इस्राइल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के एक हफ्ते बाद शरीर में वायरस के खिलाफ पर्याप्त इम्यूनिटी विकसित होती है. इस्राइल में फाइजर ओर बायोएनटेक की कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है. इस्राइल में इस समय सिर्फ 6,581 एक्टिव केस हैं. जबकि भारत में एक्टिव केस की संख्या 6.5 लाख से अधिक है. भारत में अबतक 7.3 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाया जा चुका है.

Sponsored




Sponsored

कोरोना जांच में हो रही है गड़बड़ी
भोपाल में कोरोना जांच रिपोर्ट को लेकर बड़ी गड़बड़ी किये जाने का मामला सामने आया है. दरअसल, यहां कोरोना जांच को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) की गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा. आइसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार सायकल थ्रेशहोल्ड (सीटी) वैल्यू 40 या उसके नीचे है तो मरीज को कोरोना पॉजिटिव माना जाये, लेकिन सरकारी लैब में तैयार हो रही जांच रिपोर्ट में 30 से ज्यादा और 40 से कम सीटी वैल्यू वाले मरीजों को कोविड निगेटिव बताया जा रहा है.

Sponsored




Sponsored

102 दिनों में पॉजिटिव और निगेटिव होना दोबारा संक्रमण : आइसीएमआर
आइसीएमआर ने कम से कम 102 दिन के अंतराल में दो रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव पाये जाने और निगेटिव पाये जाने के मामले को सार्स-सीओवी-2 के पुन: संक्रमण के तौर पर परिभाषित किया है. आइसीएमआर के मुताबिक, भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए व्यक्तियों में से 4.5 प्रतिशत में पुन: संक्रमण पाया गया है.

Sponsored




Sponsored

INPUT: PRABHAT KHABAR

Sponsored
Sponsored

Comment here