Sponsored
Breaking News

घर बैठे शुरू करें पेट्रोल-डीजल का बिजनेस, सालभर में बन सकते हैं करोड़ों के मालिक! सरकार करेगी मदद

Sponsored





Sponsored

पेट्रोल-डीजल की ऑनलाइन डिलीवरी का कारोबार शुरू करना काफी जोखिम भरा है। साल 2016 तक देश में पेट्रोल डिलीवरी की परमिशन नहीं थी, इसके बाद सरकार ने ईंधन की ऑनलाइन डिलीवरी की इजाजत दे दी है।

Sponsored




Sponsored

ऑनलाइन होगी बुकिंग
अगर आप भी अपना कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आप पेट्रोल-डीजल की होम डिलीवरी के लिए ऑनलाइन बुकिंग ले सकते हैं। आप डोर-टू-डोर फ्यूल बेचने का कारोबार कर अच्छी कमाई कर सकते हैं।

Sponsored




Sponsored

सबसे पहले आपको इसके लिए एक एप या वेबसाइट डेवलप करना पड़ेगा। ऐप पर ग्राहक ऑनलाइन या मैसेज के जरिए ऑर्डर कर सकते हैं।

Sponsored




Sponsored

पेट्रोल की घर पर डिलीवरी
इन दिनों मोबाइल, लैपटॉप, गारमेंट और इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ-साथ तकरीबन हर तरह के प्रोडक्ट की होम डिलीवरी की जाती है। आप ई-कॉमर्स वेबसाइट या ऐप से शॉपिंग करते हैं और कुछ ही घंटों के अंदर आपके घर पर सामान की डिलीवरी हो जाती है। पिछले कुछ समय से देश में ग्रॉसरी और फल सब्जियों की भी होम डिलीवरी तुरंत की जा रही है। इसके साथ ही मीटी-फिश, चिकन जैसी चीजें भी घर पर डिलीवर कराई जा रही है।

Sponsored




Sponsored

बढ़ रहा है ट्रेंड
दो पहिया वाहन पर चलने वाले लोग कई बार इस तरह की परेशानी का सामना करना करते हैं कि उनका पेट्रोल अचानक खत्म हो गया है। अगर आप किसी सुनसान रास्ते पर हैं और वहां आस पास कोई पेट्रोल पंप नहीं है तो ऐसे मुश्किल वक्त में पेट्रोल की होम डिलीवरी करने वाले ऐप से आपको काफी मदद मिल सकती है। इसके साथ ही बहुत से लोग पेट्रोल पंप पर जाकर लाइन लगाना नहीं चाहते, वह भी अपने घर पर कार या अन्य वाहन के लिए पेट्रोल-डीजल की होम डिलीवरी करवाते हैं।

Sponsored




Sponsored

तेल कंपनियां देंगी इजाजत
अगर आप भी पेट्रोल-डीजल की होम डिलीवरी का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको पहले ऑयल कंपनियों से कांटेक्ट करना होगा। ऑयल कंपनियां आपके प्रोजेक्ट की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (DPR) मांगती हैं। अगर आपके डीपीआर कंपनियों को पसंद आए तो आपको पेट्रोल-डीजल की होम डिलीवरी करने की इजाजत मिल जाती है। इसके लिए हालांकि न्यूनतम मात्रा तय है, कोई भी ग्राहक उस मात्रा से कम पेट्रोल-डीजल नहीं मंगा सकता।

Sponsored




Sponsored

नोएडा में है पेपफ्यूल
नोएडा में एक ईंधन डिलीवरी स्टार्टअप पेप फ्यूल ने कुछ दिनों पहले से कामकाज शुरू किया है। स्टार्टअप के फाउंडर टिकेन्द्र ने बताया कि इस पर काफी रिसर्च करने की जरूरत पड़ी। घर-घर जाकर लोगों से बात की और ऑनलाइन फीडबैक भी लिया। लोगों की प्रतिक्रिया में पता चला कि हर दूसरा व्यक्ति पेट्रोल-डीजल ही होम डिलीवरी के लिए ऑनलाइन ऐप चाहता था।

Sponsored

Official Website: Pepfules.com

Sponsored




Sponsored

कार में खत्म हुआ पेट्रोल
नोएडा की पेट्रोल-डीजल डिलीवरी स्टार्टअप पेप फ्यूल का कारोबार 100 करोड़ रुपये के पार चला गया है। कंपनी के संस्थापक एक बार कार में पेट्रोल खत्म होने के बाद पेट्रोल पंप ढूंढ रहे थे। करीब 10 किलोमीटर के दायरे में उन्हें कोई पेट्रोल पंप नहीं मिला और कार को धक्का मार कर ले जाना पड़ा। इसके बाद उन्होंने पेट्रोल डीजल की होम डिलीवरी से संबंधित कारोबार करने के बारे में सोचा।

Sponsored




Sponsored

डीजल से की शुरुआत
2016 तक सरकार ने पेट्रोल की डिलिवरी की छूट नहीं दी थी। इसलिए पेपफ्यूल ने शुरुआत डीजल से की। बाकी अब हाल ही में सरकार ने पेट्रोल की डिलिवरी की भी इजाजत दे दी है। डीजल से शुरुआत करने वाले पेपफ्यूल के संस्थापकों ने काफी मेहनत की। अगर आप भी पेट्रोल-डीजल की ऑनलाइन डिलीवरी का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो बता दें कि इसमें काफी जोखिम भी है।

Sponsored




Sponsored

प्रधानमंत्री ऑफिस से मिली मंजूरी
शुरुआत में पेपफ्यूल के संस्थापकों ने पीएमओ (प्रधानमंत्री ऑफिस) को अपने बिजनेस का आइडिया भेजा। वहां से कुछ दिन में मंजूरी मिल गयी। फिर इंडियन ऑयल ने उनसे एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट पेश करने को कहा। इंडियन ऑयल से मंजूरी लेने के बाद उन्होंने बिजनेस की शुरुआत की। उन्होंने अपने बिजनेस का आइडिया इंडियन ऑयल के अलावा भारत पेट्रोलियम, पेट्रोलियम प्रोसेस इंजीनियरिंग सर्विस आदि कंपनियों को भी भेजा था।

Sponsored




Sponsored

आप कैसे करें बिजनेस
आप भी इसी प्रोसेस के तहत अपना ऑनलाइन फ्यूल बिजनेस शुरू कर सकते हैं। आपको इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और पेट्रोलियम प्रोसेस इंजीनियरिंग सर्विस के अलावा सरकारी मदद भी मिल सकती है। हालांकि इसके लिए कम से कम 12 लाख रु के निवेश की जरूरत पड़ सकती है। यदि आपको पैसे की जरूरत है तो सरकार की मुद्रा योजना आपके बहुत काम आ सकती है। इस योजना के तहत बिजनेस शुरू करने और उसे बढ़ाने के लिए लोन मिलता है।

Sponsored




Sponsored

मुद्रा योजना के तहत 10 लाख रु तक का लोन लिया जा सकता है। इनमें यदि आप अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आपको शिशु लोन यानी 50 हजार रुपये की मदद मिलेगी। वहीं किशोर मुद्रा लोन स्कीम के तहत 50 हजार रु से 5 लाख रु तक का लोन मिल सकता है। इसी तरह तरुण लोन कैटेगरी में 10 लाख रु तक की मदद मिल सकती है।

Sponsored




Sponsored

[DISCLAIMER: यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है]

Sponsored




Sponsored
Sponsored
Sponsored
Bharat News Channel

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored