Sponsored
Breaking News

मथुरा: नवरात्र के पहले दिन 17 अक्टूबर से खुल जाएंगे बांके बिहारी मंदिर के कपाट, देखें तस्वीरें

Sponsored

मथुरा. उत्तर प्रदेश के मथुरा (Mathura) में नवरात्र के पहले दिन 17 अक्टूबर से विश्व विख्यात बांके बिहारी मंदिर के पट भक्तों के लिए खुल जाएंगे. करीब 6 महीने 25 दिन के इंतजार के बाद मंदिर खुलने की खबर से भक्तों में खुशी की लहर है. मामले में मंदिर प्रबंधक ने बताया कि कोविड-19 के नियमानुसार मंदिर में भक्तों को दर्शन की अनुमति मिलेगी. (File Photo)

Sponsored

Sponsored

मंदिर प्रबन्धक मुनीष शर्मा ने बताया कि कोरोना संक्रमण के कारण बांके बिहारी मंदिर पिछले करीब 6 महीने से बंद था. इस दौरान मंदिर की दीवार और फर्श की आईआईटी इंजीनियर और पुरातत्व विशेषज्ञों की देखरेख में मंदिर की मरम्मत कराई गई है. यह कार्य जारी है, जिसके 16 अक्तूबर तक पूर्ण होने की पूर्ण सम्भावना है. (File Photo)

Sponsored

Sponsored

बता दें बांके विहारी जी का मंदिर सबसे प्राचीन माना जाता है. इस स्थान की महिमा का वर्णन हरिवंश पुराण, श्रीमद्भागवत और विष्णु पुराण जैसे कर्इ ग्रंथों में किया गया है. कालिदास ने भी इसका उल्लेख रघुवंश में इंदुमती-स्वयंवर के प्रसंग में शूरसेनाधिपति सुषेण का परिचय देते हुए किया है. (File Photo)

Sponsored

Sponsored

श्रीमद्भागवत के अनुसार गोकुल से कंस के अत्याचार से बचने के लिए नंदजी कुटुंबियों और अन्य परिजनों के साथ वृन्दावन निवास के लिए आए थे. विष्णु पुराण में इस बात के साथ वृन्दावन में कृष्ण की लीलाओं का वर्णन किया गया है. (File Photo)

Sponsored

Sponsored

बांके बिहारी मंदिर मथुरा जिले के वृंदावन धाम में रमण रेती स्थान पर है. श्री कृष्ण के बांके बिहारी स्वरूप का यह मंदिर भारत के प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. इसका निर्माण 1864 में स्वामी हरिदास ने करवाया था. मान्यता है कि इस मंदिर में भगवान के दर्शन मात्र से इंसान के समस्त पापों का नाश हो जाता है. (File Photo)

Sponsored

Sponsored

Input: News18

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Bharat News Channel

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored