Breaking NewsNationalSTATEUTTAR PRADESH

Hathras Case: योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, SP-DSP समेत कई पुलिस अधिकारियों को किया सस्पेंड

bharat news, bharat news hindi ,bharat news Channel, Hindi NewsHathras gangrape, Hathras case, UP news, Lucknow news, Yogi Adityanath, CM Yogi, DM of Hathras, Praveen Kumar suspended, SP Vikrant Veer of Hathras suspended,हाथरस गैंगरेप, हाथरस केस, यूपी न्यूज, लखनऊ न्यूज, योगी आदित्यनाथ, सीएम योगी, हाथरस के डीएम प्रवीण कुमार निलंबित, हाथरस के एसपी विक्रांत वीर निलंबित,Hindi News, News in Hindi

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड (Hathras Case) को लेकर योगी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर समेत कई पुलिस अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है. वहीं एसआईटी को सभी लोगों के नारको और पॉलीग्राफ टेस्ट कराने के निर्देश दिये है. फिलहाल डीएम पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

Sponsored

दोषियों को ऐसा दंड मिलेगा कि बनेगा उदाहरण- सीएम योगी

Sponsored

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्वीटर अकाउंट से उन आलोचनाओं का जवाब देने की कोशिश की है जिनमें यूपी में महिलाओं की सुरक्षा को कमजोर बताया गया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है. उन्होंने प्रदेश की जनता को यह भरोसा दिलाने की कोशिश की है कि महिलाओं के सम्मान और स्वाभिमान को नुकसान पहुंचाने वालों को उनकी सरकार बख्शेगी नहीं. हर हाल में उन्हें दंड मिलेगा. ये दंड ऐसा होगा जो भविष्य में उदाहरण बन जाएगा

Sponsored

विपक्ष का धरना-प्रदर्शन जारी
मालूम हो कि यूपी में महिलाओं के साथ इस हफ्ते रेप की खबरें लगातार सामने आईं. विपक्ष ने इन वारदात को लेकर सरकार पर जोरदार हमला बोला है. आम आदमी भी यूपी की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर गुस्से में है. उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड (Hathras Gangrape Case) को लेकर सियासत और हंगामा जारी है. कई विपक्षी पार्टियां मामले में उत्तर प्रदेश की सरकार और यूपी पुलिस के रवैये को लेकर सवाल उठा रही हैं.

Sponsored

छावनी में तब्दील हुआ गांव, मीडिया की नो-एंट्री
पुलिस ने हाथरस गैंगरेप पीड़ित के गांव को पुलिस ने छावनी बना रखा है. जिले में धारा-144 लगाने के साथ ही पीड़ित के गांव में नाकेबंदी है. गांव के लोगों को भी आईडी दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है. प्रशासन के इस रवैये से लोग नाराज हैं. उनका कहना है कि हमारे ही गांव में हमसे अपराधी जैसा सलूक हो रहा है.

Sponsored

 

Input: News18

Sponsored
Sponsored

Comment here