Breaking NewsNationalSTATE

घर से शुरू करें अपना LED लाइट बनाने का कारोबार और करें अंधाधुंध कमाई, सिर्फ 50 हजार में लग जाएगा प्लांट





Sponsored

लगभग हर कोई अपना बिजनेस शुरू करने का सपना देखता है. हालांकि बिजनेस शुरू करने में लगने वाले इन्वेस्टमेंट (Investment), जगह की कमी जैसी वजहों से ज्यादातर लोगों का यह सपना अधूरा रह जाता है. अगर सही से जानकारी जुटाई जाए तो ऐसे कई बिजनेस हैं, जिन्हें घर से ही शुरू किया जा सकता है और ज्यादा इन्वेस्टमेंट की भी जरूरत नहीं पड़ती है.

Sponsored




Sponsored

घर में ही LED बल्ब बनाने का बिजनेस ऐसा ही आइडिया है. इसे महज 50 हजार रुपये लगाकर शुरू किया जा सकता हे और हर महीने लाखों में कमाई की जा सकती है.

Sponsored




Sponsored

इस बिजनेस पर सरकार देती है सब्सिडी
एलईडी बल्ब (LED Bulb) बनाने का काम आसान है और इसमें बहुत जगह की भी जरूरत नहीं होती है. इस कारण एलईडी बल्ब बनाने का बिजनेस आसानी से आप घर से ही शुरू कर सकते हैं. सरकार भी लोगों को बिजनेस करने के लिए प्रोत्साहित करती है.

Sponsored




Sponsored

एलईडी के बिजनेस में तो सरकार से सब्सिडी भी मिल जाती है. इस तरह एलईडी बल्ब बनाने का काम 50 हजार रुपये लगाकर घर से ही शुरू किया जा सकता है. इसमें रॉ मटीरियल्स की लागत भी शामिल है.

Sponsored




Sponsored

इतनी हो सकती है हर महीने कमाई
एक एलईडी बल्ब बनाने में करीब 50 रुपये की लागत आती है. बाजार की बात करें तो 50 रुपये में तैयार बल्ब को आसानी से 100 रुपये में बेचा जा सकता है. इसका मतलब हुआ कि यह बिजनेस लागत का डबल रिटर्न दे सकता है. मान लीजिए कि आप एक दिन में 100 बल्ब बनाते हैं.

Sponsored




Sponsored

लागत और बाजार में बिक्री की कीमत को देखें तो हर बल्ब पर 50 रुपये की बचत होती है. इस तरह आप एक दिन में ही 5000 रुपये बचा सकते हैं. महीने की बात करें तो यह बचत 1.50 लाख रुपये की हो जाती है. आपको इसके लिए बस मार्केट तलाशने की जरूरत है.

Sponsored




Sponsored

कई संस्थान, कंपनियां देती हैं ट्रेनिंग
एलईडी बल्ब बनाने के लिए सरकार से मान्यता प्राप्त कई संस्थान ट्रेनिंग देते हैं. स्वरोजगार कार्यक्रम के तहत भी एलईडी बल्ब बनाने की ट्रेनिंग दी जाती है. एलईडी बल्ब बनाने वाली कंपनियां भी लोगों को ट्रेनिंग ऑफर करती हैं. इसकी ट्रेनिंग में बताया जाता है कि एलईडी और पीसीबी के बारे में सारी चीजें बताई जाती हैं. ट्रेनिंग में एलईडी ड्राइवर, फिटिंग, टेस्टिंग, मटीरियल्स की खरीद, मार्केटिंग, सरकारी सब्सिडी आदि के बारे में बताया जाता है.

Sponsored




Sponsored

गांवों में भी बनी रहती है डिमांड
एलईडी बल्ब बनाने का बिजनेस शुरू करने के कई फायदे हैं. चूंकि इनकी रोशनी अच्छी होती है और बिजली की खपत कम होती है, इस कारण इसकी डिमांड काफी ज्यादा है. यह बल्ब शीशे का नहीं बल्कि प्लास्टिक का होता है. इस कारण यह टिकाऊ होता है. सीएफएल (CFL Bulb) की तुलना में ये न सिर्फ टिकाऊ होते हैं, बल्कि इनकी उम्र भी ज्यादा होती है.

Sponsored




Sponsored

एलईडी बल्ब की लाइफ के बारे में माना जाता है कि ये 50 हजार घंटे चलते हैं. वहीं सीएफएल बल्ब करीब 8 हजार घंटे ही चल पाते हैं. इन कारणों से एलईडी बल्ब की डिमांड शहरों से लेकर गांवों तक बनी रहती है.

Sponsored




Sponsored

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद. भारत में Start up और Business को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं. हमें Start up और Business आईडिया को भारत के हर कोने में लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है. कृपया इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

Sponsored




Sponsored

DISCLAIMER: किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले हमारी सलाह यह रहेगी कि आप उस बिजनेस में पहले से काम कर रहे व्यक्ति से राय जरूर ले. यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है.

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here