Sponsored
Breaking News

कारखानों और फैक्ट्रियों की छतों पर गोल पहिये जैसा घूमता हुआ क्या है और ये क्यों लगें होता है ?

Sponsored





Sponsored

जब हम कही घूमने जाते हैं तो कुछ न कुछ नया जरूर देखने को मिलता है. ऐसे में मन में इच्छा होती है की आखिर यह क्या है? आज हम आपको एक ऐसी ही चीज के बारे में बताने वाले हैं जिसे आप कई बार देखें होंगें, आपके मन में यह चल रहा होगा कि आखिर यह है क्या जो गोल गोल घूमता रहता है.

Sponsored




Sponsored

दरअसल आपने कल कारखानों के ऊपर में छोटे छोटे गुंबद के आकार का देखा होगा जोकि लगातार घूमता ही रहता है. दरअसल आपको बता दें कि कारखानों की छतों पर लगे गोल गोल गुंबद स्टेनलेस स्टील का बना होता है. जब इस पर सूर्य की रोशनी पड़ती है तो यह और भी चमकिला दिखता है. क्या आपको पता है कि आखिर यह है क्या और काम क्या करता है.

Sponsored




Sponsored

कारखानों की छतों पर घूमते हुए इस गुंबद को टर्बो वेंटिलेटर के नाम से जाा जाता है. साथ ही इसके कई और भी नाम हैं जैसे कि air ventilator, Turbine Ventilator, roof extractor के नाम से जाना जाता है. वर्तमान समय में टर्बो वेंटिलेटर का इस्तेमाल सिर्फ कारखानों में ही नहीं लगाया जाता है बल्कि यह अब अन्य जगहों पर भी इसका इस्तेमाल किया जाने लगा है.

Sponsored




Sponsored

आप इसे बड़ी ही आसानी से रेलवे स्टेशनों पर भी देख सकते हैं. यह रेलवे स्टेशनों की छतों पर आप इसको देख सकते हैं. ऐसे में आपके दिमाग में यह चल रहा होगा कि आखिर यह टर्बो वेंटिलेटर होता क्या है?

Sponsored




Sponsored

दरअसल टर्बो वेंटिलेटर में एक पंखा लगा होता है जोकि मध्यम गति से चलता है. इसका मुख्य कारण होता है कारखानों या परिसरों के अंदर मौजूद गर्म हवाओं को छत के रास्ते बाहर का रास्ता दिखा देना.

Sponsored




Sponsored

बता दें कि गर्म हवा हल्की होती है इसीलिए वह ऊपर चली जाती है, जहां turbo ventilator की मदद से उसे बाहर किया जाता है जब यह गर्म हवाओं को कमरे से बाहर करता है तब खिड़कियों और दरवाजों से आने वाली ताजा और प्राकृतिक हवाएं ज्यादा समय तक कारखानों में रहती है.

Sponsored




Sponsored

जिससे कारखानों में काम करने वाले कामगारों को काफी राहत मिलता है. टर्बो वेंटिलेटर कमरे से गर्म हवाओं को तो बाहर करता ही है साथ ही साथ वह कारखानों के अंदर से दुर्गंध को भी बाहर निकालता है. परिस्थियों के अनुसार अगर मौसम में ज्यादा नमी है तो इसमें भी वह कारगर तरीके से काम करता है.

Sponsored




Sponsored

अब तक आपके दिमाग में यही चल रहा होगा कि यह वेंटिलेर चलता कैसे हैं. यानी की बिजली से चलता है या फिर किसी और चीज से चलता है. तो आपको बता दें कि यह मशीन तो बिजली से चलती है और न ही किसी अन्य उपकरण से.

Sponsored




Sponsored

जैसा की हमलोगों ने पहले ही जाना है कि गर्म हवा ऊपर की ओर उठती है तो वेंटिलेटर के टरबाइन में यह जमा हो जाती है. जिसके कारण वेंटिलेटर में लगा हुआ ब्लेट उल्टी दिशा में घूमने लगता है. तो छत के ऊपर में चल रही प्राकृतिक हवाएं इसे और भी तेजी से घूमाने लगती है. जिसके कारण अंदर की गर्म हवा बाहर आती जाती है और खिड़की और दरवाजे के माध्यम से ताजी हवा प्रवेश करती रहती है. जिससे कारखाने या फिर रेलवे स्टेशनों पर काम करने वाले लोगों को राहत मिलती है.

Sponsored




Sponsored

[DISCLAIMER: यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है]

Sponsored




Sponsored
Sponsored
Sponsored
Bharat News Channel

Leave a Comment

Recent Posts

Sponsored