Sponsored
Breaking News

कानपुर के कार्डियोलॉजी अस्पताल में भीषण आग, खिड़की तोड़कर बेड समेत निकाले गए मरीज, मची अफरा-तफरी

Sponsored

कानपुर में एक अस्पताल के कार्डियोलॉजी विभाग (आईसीयू) में आग लगने की खबर है हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की तत्काल कोई जानकारी नहीं है. खबरों की मानें तो आईसीयू में रविवार सुबह आग लगी जिसके बाद हड़कंप मच गया.

Sponsored

अस्पताल के फस्ट फ्लोर में स्थित आईसीयू में आग लगने के बाद सभी मरीजों को बाहर निकाला गया. वहीं, सूचना पर दमकर की सात गाड़ियां मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाने का प्रयास कर रही है. बताया जा रहा है कि अभी 50 लोग अस्पताल में फंसे हैं.

Sponsored

टीवी रिपोर्ट के अनुसार कार्डियोलॉजी अस्पताल की बिल्डिंग में लगी आग के कारण मरीजों को बेड सहित बाहर निकालाने का काम किया गया. मरीजों का सड़क किनारे इलाज चल रहा.

Sponsored

Sponsored

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना की जांच के लिए तीन सदस्यीय उच्चस्तरीय समिति गठित की है. स्वरूप नगर थाना अध्यक्ष अश्वनी पांडे ने बताया कि कार्डियोलॉजी अस्पताल के भूतल पर स्थित स्टोर में सुबह करीब 8:30 बजे शॉर्ट सर्किट से आग लग गई. उन्होंने बताया कि भूतल स्थित वार्डों से सभी मरीजों को सुरक्षित निकाल लिया गया है और कुल 175 मरीजों को सुरक्षित वार्ड में ले जाया गया है.

Sponsored

पांडे ने कहा कि फिलहाल खिड़कियों के शीशे तोड़कर धुआं बाहर निकालने की व्यवस्था कर दी गई है. उन्होंने बताया कि इस घटना में किसी के हताहत होने की फिलहाल कोई सूचना नहीं है. पांडे ने कहा कि भूतल क्षेत्र में धुआं भर जाने के कारण पहली मंजिल की स्थिति के आकलन में दिक्कत आ रही है, लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारी और दमकल विभाग के लोग खिड़कियों के शीशे तोड़कर यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि कहीं अंदर कोई व्यक्ति फंसा तो नहीं रह गया है. आगे उन्होंने बताया कि हादसे के बाद कानपुर के पुलिस आयुक्त अमीम अरुण भी मौके पर पहुंचे गए.

Sponsored

इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए जांच के लिए तीन सदस्यीय उच्चस्तरीय समिति गठित की है. राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन से सभी घायलों का समुचित इलाज कराने तथा इस संबंध में तथ्य प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं और इसके साथ ही जाँच के लिए उन्होंने महानिदेशक अग्निशमन सेवा, आयुक्त कानपुर मंडल और प्रमुख सचिव (चिकित्सा शिक्षा) की एक उच्चस्तरीय समिति गठित की है जो तत्काल मौक़े पर जाकर संपूर्ण तथ्यों की जांच करेगी.

Sponsored

भाषा इनपुट के साथ

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Bharat News Channel

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored