BIHARBreaking NewsNationalSTATE

चाय की दुकान पर किया काम, 70 KM स्कूल आना-जाना पढ़ा, फिर वही चायवाला बन गया IAS अफसर




Sponsored

देश में लाखों स्टूडेंट्स और अभ्यार्थी यूपीएससी की परीक्षा (UPSC Exam) देते हैं, परन्तु इस सबसे कठिन परीक्षा में मात्र कुछ गई लोग सक्सेस की सीढ़ी चढ़ पाते हैं। यूपीएससी की परीक्षा देश के सबसे कठिन परीक्षाओं में एक मानी जाती है और हर अभ्यार्थी बस यही चाहता है की वह एग्जाम क्रैक करके बड़ा अधिकारी बने।

Sponsored




Sponsored

यह एक ऐसे आईएएस अफसर की कहानी हैं, जिसने गरीबी और मुश्किलों में भी अपने इस सपने को नहीं छोड़ा और निरंतर डटा रहा। अपने स्कूल के दिनों में उसे रोज 70 किलोमीटर दूर स्कूल जाना पड़ता था और उनके पिता मजदूरी करते थे।

Sponsored




Sponsored

कुछ समय ठेले पर चाय बेचीं
आर्थिक तंगी और बहुत ही कम संसाधनों में भी अपनी हिम्मत बंधे रखी और उन्होंने अपने मज़दूर पिता की मदत करने के लिए कुछ समय ठेले पर चाय भी बेचीं। यह कहानी है आईएस हिमांशु गुप्ता (IAS Himansu Gupta) की, जिन्होंने मेहनत और संघर्ष के बाद सफलता पाने की मिसाल पेश की है।

Sponsored




Sponsored

उत्तराखंड (Uttrakhand) के रहने वाले हिमांशु गुप्ता कड़ी मेहनत करने के बादआज भले ही एक आईएएस अफसर (IAS Officer) है, परन्तु उनकी कहानी आपको यह सोचने पर मजबूर कर देगी की जब वे इस मुकाम पर पहुँच सकते हैं, तो आप उनसे अच्छी परिस्थिति में है। बस बात मन में जज्बा लेन की है। भला कोई भी इन परिस्थितियों में निराश होकर बैठ गए और सपने देखना ही छोड़ दे।

Sponsored




Sponsored

कई साल तक स्कूल ड्राप कर दिए गए
यूपीएससी की परीक्षा क्रैक (UPSC Exam Cracked) करने वाले हिमांशु गुप्ता कई साल तक स्कूल ड्राप कर दिए थे। उनके पिता वैसे तो एक दिहाड़ी मजदूर थे, लेकिन उन्होंने यह हमेशा यह चाहा कि वह अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देकर काबिल बनाये। वे अपनी आर्थिक स्थिति से भी बहुत परेशान थे। फिर भी वे प्रयत्न करते रहे।

Sponsored




Sponsored

हिमांशु गुप्ता ने एक सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपने बारे में बताया की मैं स्कूल जाने से पहले और बाद में अपने पिता के साथ काम करता था। स्कूल 35 किमी दूर था, तो ऐसे में आना-जाना 70 किमी (70 KM Travel) का हो जाता था। मैं अपने स्कूल के सहपाठियों के साथ एक वैन में जाता था।

Sponsored




Sponsored

सहपाठियों ने चायवाला कहकर मज़ाक बनाया
उन्होंने आगे बताया की जब भी मेरे सहपाठी हमारे चाय के ठेले (Tea Shop) के पास से गुजरते, मैं छिप जाया करता था, लेकिन एक बार किसी ने मुझे देख लिया और मजाक बनाना शुरू कर दिया। मुझे सभी ‘चायवाला’ (Chaiwala) कहने लगे थे। फिर भी इस पर ध्यान ना देते हुए मेने अपनी पढ़ाई पर ध्यान दिया और जब भी टाइम मिला, तब पिता की मदत भी की।

Sponsored




Sponsored

हिमांशु गुप्ता ने आगे बताया कि उनके सपने आगे बढ़ने और कुछ बड़ा करने के रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं हमेशा एक अच्छे शहर में रहना और अपने परिवार को एक अच्छी जिंदगी देना चाहता था। पापा हमेशा कहते थे, ‘बेटा सपने सच करने है तो पढाई करो।’ तो मैंने वही किया।

Sponsored




Sponsored

अंग्रेजी मूवी से इंग्लिश भी सीखी
उन्होंने आगे बताया की मुझे इस बात का अहसास हो गया था की मैं कड़ी मेहनत से पढ़ूंगा, तो मुझे एक बड़े विश्वविद्यालय में एड्मिशन मिल जाएगा। लेकिन मुझे अंग्रेजी नहीं आती थी, इसलिए मैं अंग्रेजी मूवी DVD लाता और उन्हें सीखने के लिए देखता था। उन्होंने इसके लिए बहुत मेहनत की और उन्हें इसका फायदा भू हुआ।

Sponsored




Sponsored

[DISCLAIMER: यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है]

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here