Sponsored
Breaking News

रेलवे के साथ बिजनेस करने का सपना होगा सच, जानें कैसे होगी लाखों की कमाई

Sponsored

भारतीय रेलवे सालाना 70,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के प्रोडक्ट खरीदता है. इन प्रोडक्ट में टेक्निकल (Technical) और इंजीनियरिंग उत्पादों (Engineering Products) के साथ दैनिक उपयोग (Daily Use Product) के सभी लगभग सभी तरह के सामान होते हैं. ऐसे में आप छोटे कारोबारी के तौर पर रेलवे को अपना प्रोडक्ट बेचकर अपनी कमाई बढ़ा सकते हैं. अगर आप भी रेलवे के साथ बिजनेस करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको https://ireps.gov.in और https://gem.gov.in पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा.

Sponsored

Sponsored

इस तरह शुरू करें अपना बिजनेस
रेलवे कोई भी प्रोडक्ट उस कंपनी से खरीदता है जो मार्केट में सबसे सस्ता सामान सप्लाई कर रहा हो. ऐसे में आपको किसी ऐसे प्रोडक्ट की तलाश करनी होगी जो आपको किसी कंपनी या मार्केट से आसानी से और सस्ती दरों पर मिल जाए. इसके बाद आप एक डिजिटल सिग्नेचर (Digital Signature) बनवाएं. इसकी मदद से आप रेलवे की वेबसाइट पर जाकर नए टेंडर देख सकेंगे. अपनी लागत और प्रॉफिट के आधार पर टेंडर डालें. ध्यान रहे आपके रेट कॉम्पिटेटिव रहेंगे तो आपको टेंडर मिलने में आसानी होगी. सर्विस की सप्लाई के लिए रेलवे कुछ तकनीक योग्यता मांगता है.

Sponsored

Sponsored

रेलवे लोकल प्रोडक्ट्स को दे रहा है बढ़ावा
रेलवे ने घरेलू निर्माताओं (Domestic Manufacturers) को बढ़ावा देने के लिए एक स्पष्ट, पारदर्शी, निष्पक्ष खरीद प्रणाली को प्रोत्साहन दिया है. मेक इन इंडिया नीति के तहत रेलवे ने अपने वैगन (Wagons), ट्रैक (Tracks) और एलएचबी डिब्बों (LHB coaches) के टेंडर में 50 फीसदी से अधिक स्थानीय प्रोडक्ट वाले आपूर्तिकर्ता ही भाग ले सकेंगे. वहीं, ‘वंदे भारत’ ट्रेन सेट के लिए 75 फीसदी इलेक्ट्रिक सामान मेक इन इंडिया के तहत खरीदा जाएगा.

Sponsored

Sponsored

MSME को दे रहे हैं बढ़ावा
रेलवे ने एमएसएमई को बढ़ावा देने के लिए बड़ा फैसला किया है. रेलवे के किसी टेंडर की लागत की 25 फीसदी तक की खरीद में एमएसएमई को 15 फीसदी तक की प्राथमिकता मिलेगी. इसके अलावा, छोटे उद्योगों को धरोहर जमा राशि और सुरक्षा जमानत राशि जमा करने की शर्तों में भी छूट दी गई है.

Sponsored

Sponsored

नए रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं
अगर कोई आपूर्तिकर्ता रेलवे की किसी एक एजेंसी में कोई प्रोडक्ट सप्लाई करने के लिए रजिस्ट्रेशन (Supplier Registers) करा लेता है तो इसे पूरे रेलवे में प्रोडक्ट की सप्लाई के लिए रजिस्ट्रेशन माना जाएगा. नए रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं होगी. एक बार रजिस्ट्रेशन करा रेलवे के साथ बिजनेस शुरू कर सकते हैं.

Sponsored

Input: ZeeNews

Sponsored
Sponsored
Sponsored
Bharat News Channel

Leave a Comment
Sponsored
  • Recent Posts

    Sponsored