BIHARBreaking NewsSTATE

बिहार: गोपालगंज के 150 गांव दोबारा बाढ़ की चपेट में, कई पंचायतों में तबाही का मंजर

Bharat news channel, bharat news channel hindi, bharat news , भारत न्यूज़ Gandak Barrage,Gopalganj news, Gandak River, Water Resources Department, Bihar News, bihar floods, Flood,Gopalganj news,">

गोपालगंज. एक बार जिले में दो जगह बरौली के देवापुर और बैकुंठपुरके पकहा में सारण बांध (Saran Dam) टूटने से आई बाढ़ (Flood) ने तबाही मचा दी है. करीब डेढ़ सौ गांव दोबारा बाढ़ की चपेट में आ गये हैं. यहां सबसे ज्यादा तबाही बैकुंठपुर प्रखंड के फैजुल्लाहपुर, हमीदपुर, जगदीशपुर गम्हारी सहित कई पंचायतों में बाढ़ ने तबाही मचा दी है.

Sponsored

हालत यह है कि राजापट्टीकोठी से बलहा होकर हाल में ही बनी बंगरा घाट महासेतु जाने वाली मुख्य सडक पर बाढ़ के पानी का बहाव तेजी से हो गया है. लोग जान जोखिम में डाल कर आवागमन को मजबूर हैं. बता दें कि यहां के लोग बाढ़ की परेशानी से ढाई माह से ज्यादा वक़्त से जूझ रहे हैं.

Sponsored

गौरतलब है कि पिछले 24 जुलाई से ही यहां के बाढ़ पीडितों को परेशानी झेलनी पड़ रही है. गंडक पर बने सारण बांध और छरकी का मरम्मत कार्य पूरा होने के बाद कुछ दिनों तक यहां राहत जरूर मिली थी, लेकिन एक सप्ताह पूर्व हुई भारी बारिश ने लाखों लोगों को एक बार फिर बाढ़ की त्रासदी झेलने को मजबूर कर दिया है.

Sponsored

बता दें कि नेपाल में भारी बारिश के बाद वाल्मीकि नगर बराज से साढ़े चार लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था. जिसके बाद मरम्मत किये गए बांध दो जगहों पर टूट गए. इस बांध के टूटने से अब बरौली और बैकुंठपुर में दर्जनों पंचायतो की सैकड़ो गांव बाढ़ की चपेट में हैं. जिसकी वजह से लाखों लोगों को दोबारा बाढ़ की त्रासदी से जूझना पड़ रहा है.
बैकुंठपुर के बेलहा गांव के बाढ़ पीड़ित अभिषेक पाण्डेय के मुताबिक वे अपने घरो में वापस लौट गए थे. लेकिन दोबारा बांध टूटने के बाद वे दोबारा पूर्व के हालात में लौट आये हैं. जिधर देखो उधर केवल पानी ही पानी नजर आ रहा है. नतीजा यह हो गया है कि जो बाढ़ पीड़ित तम्बू से लौटे कर अपने घर आये थे.

Sponsored

बाढ़ पीड़ित पाना देवी के मुताबिक पहले बाढ़ के पानी ख़त्म होने से कुछ निजात मिली थी, लेकिन दोबारा आयी बाढ़ से घर के सभी राशन ख़राब हो गये हैं. ये लोग खाने के लिए दाने-दाने का मोहताज हैं. इन्हें जिला प्रशासन से अभी तक कोई सहायता और राहत सामग्री नहीं मिली है.

Sponsored

input: News18

Sponsored
Sponsored

Comment here