BIHARBreaking NewsNationalSTATE

Jeera Farming: जीरे की खेती कर बन सकते हैं लखपति, बुआई से लेकर कमाई तक जानें सबकुछ





Sponsored

जीरा उन मसालों में शामिल है जिसका इस्तेमाल कई रूपों में होता है. जीरा अगर सब्जी या अन्य वेज-नॉनवेज डिश में न पड़े तो स्वाद फीका सा लगता है. यही नहीं, जीरे को भुनकर छाछ, दही, लस्सी में मिलाकर खाया जाता है. इससे टेस्ट और बढ़ जाता है.

Sponsored




Sponsored

जीरे से स्वाद तो बढ़ता ही है, यह स्वास्थ्य के लिए भी उत्तम माना जाता है. कमाई के लिहाज से भी जीरा काफी लाभदायक है. अगर जीरे की उन्नत किस्मों की बुआई की जाए तो किसान लाखों में कमाई कर सकते हैं. आइए जानते हैं कि जीरे की खेती के बारे में.

Sponsored




Sponsored

जीरे की खेती के लिए हल्की और दोमट उपजाऊ भूमि अच्छी रहती है. ऐसी मिट्टी में जीरे की खेती आसानी से की जा सकती है. बुआई से पहले यह जरूरी है कि खेत की तैयारी ठीक ढंग से की जाए. इसके लिए खेत को अच्छी तरह जोतकर उसे अच्छी तरह भुरभुरी बना लेनी चाहिए. जिस खेत में जीरे की बुआई करनी है, उस खेत से खेर-पतवार निकाल कर उसे साफ कर लेना चाहिए.

Sponsored




Sponsored

यदि पिछली खरीफ की फसल में 10 से 15 टन प्रति हेक्टेयर की दर से गोबर की खाद डाली जा चुकी है तो जीरे की फसल में अतिरिक्त खाद देने की जरूरत नहीं होती. अगर ऐसा नहीं किया गया है तो प्रति हेक्टेयर 10-15 टन गोबर की खाद का प्रयोग खेत में करना चाहिए. गोबर की खाद को खेत में ठीक ढंग से मिला देना चाहिए.

Sponsored




Sponsored

जीरे की उन्नत किस्में
जीरे की उन्नत किस्मों में तीन वेरायटी का नाम प्रमुख है. आरजेड 19 और 209, आरजेड 223 और जीसी 1-2-3 की किस्मों को उन्नत माना जाता है. इन किस्मों की पकने की अवधि 120-125 दिन है. इन किस्मों की औसतन उपज प्रति हेक्टेयर 510 से 530 किलो ग्राम है. किसान इनमें से किसी एक किस्म का चयन कर बुआई कर सकते हैं और अच्छी कमाई कर सकते हैं.

Sponsored




Sponsored

कब करें बुआई
बुआई की जहां तक बात है तो जीरे की बुआई 15 से 30 नवंबर के बीच कर देनी चाहिए. 1 हेक्टेयर खेत के लिए 12-15 किलो बीज पर्याप्त है. बुआई से पहले बीज का उपचार करना जरूरी होता है ताकि उपज अच्छी मिले और बीज खराब न हो. उपचार के लिए प्रति किलो बीज में 2 ग्राम कार्वन्डाजिम दवा मिला देनी चाहिए. बीज के उपचार के लिए 4 ग्राम ट्राइकोडरमाबेडी भी मिला सकते हैं. जीरे की बुआई आमतौर पर छिड़काव की विधि से की जाती है. यानी कि जीरे को खेत में छिड़क कर बोया जाता है.

Sponsored




Sponsored

कैसे करें खेती
इसकी अच्छी विधि यह है कि खेतों में पहले क्यारी बना लें फिर उसमें बीज का छिड़काव कर दें. बीज छिड़काव के बाद लोहे की दंताली से बीजों को मिट्टी से मिला दें ताकि बीजों पर मिट्टी की हल्की परत चढ़ जाए. ध्यान रखें कि बीच जमीन में ज्यादा गहरा नहीं जा पाए. हालांकि कुछ मायनों में छिड़काव विधि से ज्यादा क्यारी बना कर कतार में जीरे की बुआई को अधिक उपयुक्त माना गया है.

Sponsored




Sponsored

कतार में बुआई के लिए क्यारियों में 30 सेंटीमीटर की दूरी पर लोह या लकड़ी से लकीर खींच दें. बीजों को इन कतारों पर डालकर दंताली चला देनी चाहिए. बुआई के वक्त यह ध्यान रखें कि बीज मिट्टी से ठीक से ढंक जाए. मिट्टी की परत एक सेंटीमीटर से ज्यादा मोटी नहीं होनी चाहिए.

Sponsored




Sponsored

क्या डालें उर्वरक
अब बात खाद और उर्वरकों की. जीरे की फसल को 30 किलोग्राम नाइट्रोजन, 20 किलो स्फुर और 10 से 15 टन गोबर की खाद की जरूरत होती है. यह मात्रा प्रति 1 हेक्टेयर के लिए है. बुआई से पूर्व भूमि में फास्फोरस की पूरी मात्रा मिला देनी चाहिए. नाइट्रोजन की आधी मात्रा बुआई से 30-35 दिन बाद और शेष मात्रा बुआई के 60 दिन बाद सिंचाई के बाद खेत में डाली जानी चाहिए.

Sponsored




Sponsored

कब करें सिंचाई
जीरे की फसल की सिंचाई की जहां तक बात है तो पहली सिंचाई बुआई के ठीक बाद कर देनी चाहिए. दूसरी सिंचाई बुआई के 7 दिन बाद और तीसरी सिंचाई 15-25 दिन पर करनी चाहिए. सिंचाई के समय ध्यान रखें कि पानी का बहाव तेज न हो. तेज बहाव से बीज के इधर-उधर छिटकने का खतरा होता है. दूसरी सिंचाई के बाद बीच का अंकुरण न हुआ हो या जमीन पर पपड़ी पड़ गई हो तो एक हल्की सिंचाई और कर देनी चाहिए. पकती हुई फसल में सिंचाई नहीं करना चाहिए.

Sponsored




Sponsored

जीसे से कमाई
देश का 80 प्रतिशत से अधिक जीरा गुजरात और राजस्थान में उगाया जाता है. राजस्थान में देश के कुल उत्पादन का लगभग 28 प्रतिशत जीरे का उत्पादन होता है. अब बात करें उपज और इससे कमाई की तो जीरे की औसत उपज 7-8 क्विंटल बीज प्रति हेक्टयर प्राप्त हो जाती है. जीरे की खेती में लगभग 30 से 35 हजार रुपये प्रति हेक्टयर का खर्च आता है. अगर जीरे की कीमत 100 रुपये प्रति किलो भाव मान कर चलें तो 40 से 45 हजार रुपये प्रति हेक्टयर का शुद्ध लाभ मिल सकता है. ऐसे में अगर 5 एकड़ की खेती में जीरा उगाया जाए तो 2 से सवा दो लाख रुपये की कमाई की जा सकती है.

Sponsored




Sponsored

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद. भारत में Start up और Business को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं. हमें Start up और Business आईडिया को भारत के हर कोने में लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है. कृपया इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

Sponsored




Sponsored

DISCLAIMER: किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले हमारी सलाह यह रहेगी कि आप उस बिजनेस में पहले से काम कर रहे व्यक्ति से राय जरूर ले. यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है.

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here