Breaking NewsNationalSTATE

Bisleri Success Story: दवा बनाने वाली एक कंपनी, जिसने बोतल में बंद पानी बेच दिया, लोगों ने कहा था पागल

Bisleri water, Bisleri Company, Parle Company, Ramesh chauhan, Chauhan Brothers, Success Story, Mumbai




Sponsored

जब लोग आपको कॉपी करने लगें तब समझ जाइए कि आप सफल हो चुके हैं. ठीक उसी तरह जिस तरह पानी बोतल कंपनी बिसलेरी सफल हो चुकी है. आप अगर बिसलेरी की बोतल खरीदने जा रहे हैं तो आपको अपनी आंखें खुली रखनी पड़ती हैं क्योंकि आपके हाथ में पड़ने वाली बोतल Bisleri की जगह Belsri, Bilseri, Brislei या Bislaar भी हो सकती है. यही वजह है कि बिसलेरी ने अपनी टैग लाइन कुछ इस तरह रखी है.

Sponsored


Sponsored



Sponsored

‘समझदार जानते हैं कि हर पानी की बोतल Bisleri नहीं’
वाटर बॉटल इंडस्ट्री में 60% की हिस्सेदारी रखने वाला ये पानी ब्रांड आज देश भर में लोकप्रिय है. लोग दुकान पर जा कर ये नहीं कहते कि पानी की बोतल देना, लोग बिसलेरी ही मांगते हैं. इतने चर्चित और लोकप्रिय ब्रांड की कहानी भी उतनी ही दिलचस्प है. तो चलिए जानते हैं कि भारत जैसे देश में पानी खरीद कर पीने की शुरुआत आखिर हुई कैसे.

Sponsored




Sponsored

दवा कंपनी थी बिसलेरी
मुंबई के ठाणे से शुरू हुआ बिसलेरी वाटर प्लांट भले ही देसी हो लेकिन बिसलेरी नाम और कंपनी पूरी तरह विदेशी थी. और तो और ये कंपनी पानी बेचती भी नहीं थी. ये बेचती थी मलेरिया की दवा और इस मलेरिया की दवा बेचने वाली बिसलेरी कंपनी के संस्थापक थे एक इटैलियन बिज़नेसमैन.

Sponsored




Sponsored

जिनका नाम था Felice Bisleri. Felice Bisleri के एक फैमिली डॉक्टर हुआ करते थे जिनका नाम था डॉक्टर रोजिज. रोजिज पेशे से तो डॉक्टर थे लेकिन दिमाग उनका पूरा बिजनेसमैन वाला था. कुछ अलग करने की सनक उनमें शुरू से थी. ये साल 1921 था जब बिसलेरी के मालिक Felice Bisleri इस दुनिया को अलविदा कह गए. उनके पीछे छूट गई बिसलेरी कंपनी को नए मालिक के रूप में मिले डॉक्टर रोजिज.

Sponsored




Sponsored

रोजिज़ ने दिया बिज़नेसमैन को पानी बेचने का Idea
रोजिज के एक बड़े ही अच्छे मित्र हुआ करते थे, जो पेशे से वकील और बिसलेरी कंपनी के लीगल एडवाइज़र भी थे. उसका एक बेटा था खुशरू संतुक. खुशरू अपने पिता की तरह ही वकालत करना चाहते थे इसीलिए तो उन्होंने गवरमेंट लॉ कॉलेज से लॉ की पढ़ाई पूरी की थी लेकिन उन्हें क्या पता था कि उनके पिता के दोस्त का एक आइडिया उनकी ज़िंदगी बदल देगा.

Sponsored




Sponsored

भारत अभी अभी आज़ाद हुआ था और देश में नए किस्म के व्यापार की डिमांड बढ़ रही थी. रोजिज के व्यापारी दिमाग ने इस बीच एक बिजनेस आइडिया खोज निकाला था. उन्होंने ने सोचा कि पानी का बिजनेस आने वाले दिनों में काफ़ी सफ़ल हो सकता है. हालांकि औरों के लिए ये सोच ठीक वैसी ही थी जैसे आज के समय में कोई कहे कि उसे ताजी हवा को पैकेट में बंद कर के बेचना है. इसके बावजूद रोजिज ने इस बिजनेस में वो देखा जो किसी को नहीं दिख रहा था. उन्होंने अपने इस बिजनेस आइडिया पर खुशरू संतुक को मना कर उनका समर्थन ले लिया.

Sponsored




Sponsored

ठाणे में लगा पहला वॉटर प्लांट
रोजिज के आइडिया को धरातल नसीब हुआ 1965 में. यही वो साल था जब खुशरू संतुक ने मुंबई के ठाणे इलाक़े में पहला ‘बिसलेरी वाटर प्लांट’ स्थापित किया. हालांकि खुशरू को उनके इस फैसले के लिए लोगों ने पागल तक घोषित कर दिया. आम लोगों के नजरिए से देखा जाए तो उन दिनों भारत जैसे देश में पानी बेचने का आइडिया किसी पागलपन से कम नहीं था. हाल ही में आजाद हो कर बंट चुके इस देश की आधी से ज़्यादा जनता अपनी दो वक्त की रोटी के जुगाड़ में जुटी रहती थी ऐसे में भला उन दिनों कोई 1 रुपये में पानी की बोतल खरीद कर क्यों पीता ?

Sponsored




Sponsored

आज बिसलेरी की वाटर बॉटल 20 रुपये में आराम से बिकती है लेकिन तब इसका 1 रुपये मूल्य भी बहुत ज़्यादा था. ऐसे में लोग खुशरू को पागल ही कह सकते थे लेकिन डॉक्टर रोजिज ने बहुत दूर की सोची थी. दरअसल उन दिनों मुंबई में पीने के पानी की गुणवत्ता बहुत ही ज़्यादा खराब थी. गरीब और आम आदमी तो किसी तरह इस पानी को पचा लेता था लेकिन अमीरों के लिए ऐसा पानी पचा पाना बहुत मुश्किल हो गया था. ऐसे में संपन्न लोगों के लिए ये पानी किसी अमृत से कम नहीं था. यही वजह थी कि बिसलेरी के मालिक डॉक्टर रोजिज बिसलरी वाटर बिजनेस की सफलता को लेकर पूरी तरह निश्चिंत थे.

Sponsored




Sponsored

महंगे होटलों से निकल कर बिसलेरी पहुंचा आम लोगों तक
बिसलेरी वाटर और बिसलेरी सोडा के साथ बिसलेरी कंपनी ने इंडियन मार्केट में कदम रखा. शुरुआती दिनों में बिसलेरी के ये दोनों प्रोडक्ट केवल अमीरों की पहुंच तक ही सीमित थे और 5 सितारा होटल्स तथा महंगे रेस्टोरेंट में ही मिलते थे. कंपनी भी जानती थी कि अपने प्रोडक्ट्स को सीमित दायरे में रख कर सफलता नहीं पा सकेगी इसलिए कंपनी ने धीरे धीरे अपने प्रोडक्ट्स को आम लोगों तक पहुंचाना शुरू किया. आम लोगों की पहुंच तक आने के बाद भी ज़्यादातर लोग इस कंपनी का सोडा खरीदना ही पसंद करते थे. यही वजह रही कि खुशरू संतुक को पानी का बिजनेस कुछ खास नहीं जमा. अब वो इस ब्रांड को बेचने का मन बनाने लगे.

Sponsored




Sponsored

SOURCE: indiatimes

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here