BIHARBreaking NewsNationalSTATE

समुद्री तूफान ‘यास’ का खतरा, बिहार में भी होगी मूसलाधार बारिश




Sponsored

पश्चिम में अरब सागर के टाक्‍टे चक्रवात के बाद अब पूर्वी तट पर एक दूसरे चक्रवात का बड़ा खतरा पूर्वी क्षेत्र के राज्यों पर मंडरा रहा है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार चक्रवात यास 26-27 मई को बंगाल की खाड़ी से टकराएगा। पटना स्थित मौसम विज्ञान के अधिकारियों का कहना है कि स्वाभाविक रूप से इसका असर बिहार के दक्षिण-पूर्वी हिस्से पर पड़ेगा। ओडिशा के करीब होने का असर दिखेगा।

Sponsored




Sponsored

वैसे अभी इसकी भयावहता का आकलन किया जा रहा है। एक-दो दिनों में यह साफ हो सकेगा कि इसका किस पैमाने पर बिहार में असर दिखेगा। इधर, टॉक्‍टे के साइड इफेक्‍ट के तौर पर यूपी और बिहार में उठे चक्रवात से बारिश का सिलसिला अभी जारी है। पटना के मौसम विज्ञान केंद्र ने दरभंगा, वैशाली, पटना, समस्‍तीपुर, अरवल और जहानाबाद में बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है।

Sponsored




Sponsored

कल से शुरू हो जाएगा चक्रवात का बनना
इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार उत्तर अंडमान सागर और बंगाल की पूर्वी मध्य खाड़ी में दो दिन बाद यानी 22 मई को कम दबाव का क्षेत्र बनना शुरू होगा। ऐसा आकलन है कि इसके 72 घंटे बाद कम दबाव के क्षेत्र में यह चक्रवात बन जाएगा।

Sponsored




Sponsored

मौसम विज्ञान केंद्र के अधिकारी के अनुसार यास का असर यह होगा कि बिहार के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में तेज हवा चलेगी। बारिश भी होगी। हवा की तीव्रता कम से कम प्रति घंटे सत्तर किमी की होगी। वैसे पुख्ता तौर पर इसकी भयावहता की पूरी जानकारी उपलब्ध करने में अभी दो दिन और लगेंगे। उसके बाद बिहार के लिए चेतावनी जारी की जाएगी

Sponsored




Sponsored

बिहार में बना चक्रवात, अधिकांश जिलों में तेज बारिश
पश्चिमी उत्तर प्रदेश से लेकर बिहार एवं मध्य प्रदेश में बने चक्रवात के कारण गुरुवार को राज्य के अधिकांश हिस्सों में घंटों तेज बारिश हुई। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि अरब सागर में आये तूफान के बाहरी भाग में बने दबाव के कारण उत्तर प्रदेश, बिहार एवं मध्य प्रदेश में चक्रवात का प्रभाव है। इस तरह की स्थिति अगले दो दिन तक बनी रहने की उम्मीद है। उसके बाद मौसम साफ हो जाएगा

Sponsored




Sponsored

मई में सामान्‍य से अधिक बारिश
राज्य में मई में सामान्य से 101 फीसद अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई है। सामान्यत: प्रदेश में 1 से 19 मई तक प्री मानसून के दौरान 29 मिलीमीटर बारिश होती है। लेकिन इस वर्ष इस दौरान 59 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई है। वहीं अप्रैल में सामान्य से कम बारिश हुई थी।

Sponsored




Sponsored

सबसे अधिक बारिश मोहनिया में
पटना मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक संजय कुमार का कहना है कि अरब सागर में आया तूफान टाक्टे समाप्त हो गया है। लेकिन उसके बाहरी भाग में छाई नमी से उत्तर प्रदेश एवं बिहार के आकाश में बादल छाये हुए हैं। राज्य में सबसे ज्यादा बारिश मोहनिया में 60 मिलीमीटर रिकॉर्ड की गई। वहीं दिनारा एवं सिसवन में 50 मिलीमीटर, पटना एवं मोतिहारी में 40 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई।

Sponsored




Sponsored
Sponsored

Comment here