Breaking NewsNational

दुनिया की सबसे लंबी क्रूज ट्रिप अब वाराणसी से शुरू होगी, 3200 KM की लक्सरी सैर 50 दिन में तय करेगी





Sponsored

वाराणसी जिसे हम पवित्र नगरो मे से एक मानते हैं। यह भारत देश के राज्य उतरप्रदेश मे गंगा नदी के तट पर बसा हुआ बहुत प्राचीन नगर है। जिसे धार्मिक तीर्थ स्थल में से एक माना जाता है।

Sponsored




Sponsored

यहा कई सारे श्रदालु आते जाते रहते हैं। लेकिन अब इसे और खास बनाने के लिए यहा की पवित्र नगरी से दुनिया की सबसे लंबी क्रूज यात्रा प्रारंभ होने वाली है। जो कि यहा आने वाले सभी श्रदालु के लिए बहुत ही खुशी की बात है।

Sponsored




Sponsored

बता दे कि वाराणसी में आने वाले वर्ष मे यानी 10 जनवरी 2023 को एक विशाल क्रूज शिप जिसका नाम ‘गंगा विलास’ (Ganga Vilas Cruise Ship) रखा गया है। वह जल्द ही 3200 किलोमीटर की यात्रा प्रारंभ करेगा। यह क्रूज वाराणसी से चलकर बंगलादेश की सीमा से होते हुए असम के डिब्रुगढ (Dibrugarh) तक चलेगा।

Sponsored




Sponsored

लेकिन बीच मे यह 27 नदियो से होते हुए जो कि भारत और बांग्लादेश की नदिया है, उनसे होकर असम के डिब्रुगढ तक पहुँचेगा। इस क्रूज शिप को पूरे परिक्रमा मे लगभग 50 दिन का समय लगेगा।

Sponsored




Sponsored

CM योगी आदित्यनाथ ने अन्य मंत्रीयो के साथ रविदास घाट पर किया क्रुज का विमोचन

Sponsored




Sponsored

आपको बता दे उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी मे वाराणसी से होकर डिब्रूगढ़ तक चलने वाली इस क्रूज के समय सारिणी का 11 नवम्बर को Announce किया है। योगी जी ने रविदास घाट पर सर्बानन्द सोनेवाला जो की केन्द्रीय जलमार्ग मंत्री है।

Sponsored




Sponsored

उनके साथ आठ सामुदायिक जेट्टियो का शिलान्यास और सात सामुदायिक लोकार्पण किया। इसी सयोग मे भारी उधोग मंत्री महेन्द्र नाथ पांडेय और उधोग मंत्री एवं केन्द्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल भी इस तट पर शामिल थे।

Sponsored




Sponsored

क्रुज विशाल होने के साथ साथ इसमें यह भी होगी सुविधाएं
क्रूज शिप यानी गंगा विलास के बारे में अगर बात करे तो यह भारत का सबसे पहला व बड़ा रिवर क्रुज शिप है। जिसकी चौडाई 12.8 और लंबाई 62.5 मीटर होगी। बता दे कि इस क्रुज पर 18 खुबसुरत सुइट होंगे। जिसमे क्रुज यात्री अपना सफ़र का आनंद ले सकेगे। साथ ही इस क्रूज मे आल फ़ेसलिटी जैसे शावर, बाथरूम, कनवर्टिबल बेड, LED टीवी, फ़्रेन्च बालकनी के साथ साथ अनेको नई एशो आराम की फ़ेसलीटी होगी।

Sponsored





इसके अलावा और भी यादगार बनाने के लिए सन डेक और स्पा भी इसमें मौजूद है। इसकी सबसे अच्छी बात है कि यहा 40 सीटर रेस्टारेन्ट भी है। जिसमे इन्डियन डिशेज और दक्षिण युरोपीय खाना परोसा जाता है। जिसमे यात्री अपनी पसंद से खान पान कर सकते हैं।

Sponsored




Sponsored

50 दिनो मे 50 मशहुर जगहो मे ठहरेगा यह क्रुज
बता दे कि यह क्रूज शिप परिक्रमा मे वाराणसी से कोलकाता की हुगली नदी तक सभी मुख्य स्थानो पर ठहरेगा। यह 3200 किलोमीटर के इस सफ़र मे संस्कृति, कला, इतिहास और आध्यात्मिकता का मिलन होगा।



Sponsored

बता दे कि यह क्रूज शिप अपनी 50 दिनो की परिक्रमा पर 50 ही ऐसे स्थानो पर ठहरेगा, जिसमे कि प्राकृतिक या गैर प्राकृतिक स्थान या कई अनेक प्रकार के स्थान जो की विभिन्न तरिके से प्रसिद्ध है या फ़िर जिनका नाम दुनिया के सबसे बड़े या अनोखे स्थान पर है वहाँ से गुजरेगा।

Sponsored




Sponsored

इन सभी स्थानो मे कांजीरंगा नेशनल पार्क (Kaziranga National Park) एवं सुंदरवन डेल्टा (Sundarbans) भी उपस्थित है। जहा यह क्रूज ठहरेगा। आपको बता दे कि क्रूज शिप मे किसी भी सिंगल रिवर शिप का यह सफ़र विश्व का सबसे लंबा सफ़र रहेगा। जिसमे यात्री अपने सफ़र का आनंद लेंगे।

Sponsored




Sponsored

बता दे कि यह क्रूज भारत से होते हुए बांग्लादेश तक भी परिक्रमा करते हुए दोनो देश दुनिया के रिवर क्रूज पर्यटन के मेप मे प्रसिद्ध हो जाएंगे। जिसके कारण भारत की दूसरी और भी नदियो में रिवर क्रूज को लेकर लोगो के प्रति जाकरुकता बढेगी। इस शुरुआत से भारत देश विभिन्न देशो से अलग पहचान बना सकेगा और लोग भी सभी नजारे का लाभ उठा सकेंगे।

Sponsored




Sponsored

[DISCLAIMER: यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है]

Sponsored