UP का यह सरकारी स्कूल धांसू तरीके से पढ़ा रहा अंग्रेजी ; A से अर्जुन, B से बलराम, C से चाणक्य





हम सब ने स्कूल में ‘ए’ फॉर एप्पल और ‘बी’ फॉर बॉल पढ़ा है. हालांकि, अब ये बदलने वाला है, क्योंकि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक ऐसा स्कूल है, जिसने अंग्रेजी अल्फाबेट के लैटर्स में बड़ा बदलाव किया है. इस स्कूल में अब ‘ए’ फॉर अर्जुन और ‘बी’ फॉर बलराम पढ़ाया जाएगा.




लखनऊ के अमीनाबाद इंटर कॉलेज में बच्चों को अंग्रेजी की वर्णमालाओं से ऐतिहासिक और पौराणिक ज्ञान प्रदान किया जाएगा. स्कूल के प्रिंसिपल साहेब लाल मिश्रा ने बताया, ‘बच्चों को भारतीय संस्कृति के बारे में कम ज्ञान होता है इसलिए उनका ज्ञान बढ़ाने के लिए हमने ऐसा किया है.’




स्कूल प्रिंसिपल ने कहा, ‘हम ऐसा हिंदी की वर्णमालाओं में भी करने का प्रयास कर रहे हैं. हिंदी वर्णमाला में अक्षर ज्यादा होते हैं, इसलिए थोड़ा कठिन हो रहा है लेकिन इसमें प्रयास जारी है.’ इस तस्वीर में देखा जा सकता है कि ‘सी’ फॉर कैट नहीं बल्कि ‘सी’ फॉर चाणक्य लिखा है.




अमीनाबाद इंटर कॉलेज की तरफ से अंग्रेजी वर्णमाला के ‘हिंदी वर्जन’ किताब भी जारी की गई है. इस तस्वीर में किताब के एक पन्ने को देखा जा सकता है, जिसमें ‘डी’ फॉर ध्रुव और ‘ई’ फॉर एकलव्य लिखा हुआ है. (ANI)




अमीनाबाद इंटर कॉलेज की तरफ से जारी की गई किताबों का मकसद स्टूडेंट्स को बच्चों को भारत के इतिहास और पुराण से जुड़ी जानकारी देना है. किताब के इस पन्ने में ‘ओ’ फॉर ऑरेंज की जगह ओमकार लिखा है. (ANI)




125 साल पुराना है ये स्कूल
बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस स्कूल की बुनियाद खुद बहुत पुरानी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये स्कूल 125 साल पुराना है. यहां अब बच्चों को नई एबीसीडी पढ़ाई जा रही है जिसके माध्यम से वे भारतीय ऐतिहासिक और पौराणिक महापुरुषों के विषय में जानकारी पाएंगे.




अच्छी बात ये है कि उनके नाम के साथ तस्वीरे होने से बच्चों के मन में ये नाम साफ होंगे और उन्हें याद करने में बच्चों को परेशानी नहीं होगी.




[DISCLAIMER: यह आर्टिकल कई वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Bharat News Channel अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है]




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *